The Eternal Love

Oh! Eternal love, i wish you could be found in this material world.

Where days would have past in the depths of those oceanic eyes and night would have bloomed when full moon shines so bright.

Oh! Eternal love, i wish you could be found in this material world.

Meager thought of you would have bought us into the wild where all would have stayed in unison with out any fright.
Oh! Eternal love, i wish you could be found in this material world.

Those thunderous nights would have bring forth the moments when we would have found our recluse in each others arms.

Oh! Eternal love, i wish you could be found in this material world.

Nearer we get to you farther you move away from us. this never quenching thirst drives world crazy, i wish you could stay forever with us.

Oh! Eternal love, i wish you could be found in this material world.

Advertisements

गुजरता वक़्त

वक़्त यूँ गुजरता रहा मानो रेत बंद मुठी में से, खड़े रहे राहो में हम खड़ा हो मील का पत्थर जैसे|
इंतज़ार में गुज़र गई सदियाँ यूँ ही पर तेरा आना  न मुमकिन हुआ एक पल भी कैसे|
दुनिया चलती रही आगे बढ़ती रही,ना जाने क्यों हम थम गए एक पल में कैसे|
सपनो को दफ़न करते करते ना जाने ख्वाहिशो का जनाज़ा निकल दिया कैसे|
न जाने कब वक़्त से पीछे रह गए, सारा वक़्त यूं ही ज़ाया कर दिया हमने कैसे|

आरज़ू थी की एक मुकमल जहाँ मिले, थोड़ी ज़मीं तोडा आसमां मिले, ये हिज़्र का हाथ ही मानो खंज़र हो गया न ज़मीं मिली न आसमां मिला और अपना सुकूँ खो गया ऐसे|
वक़्त भी मानो यूँ गुज़रता गया किसी बेवफा सनम के जैसे,जिसे ठहरने का वक़्त भी न था और साथ देने की तमना भी ना थी|
सारा वक़्त यूँ ही ज़ाया कर दिया हमने ऐसे||