सफर

सफर में बसर हो रही है ज़िन्दगी,कहा वक़्त है कि दो पल चैन से कोई सांस भी ले सके।

काश न गया होता वो बचपन हमारा, इस नरम सी कुर्सी से तो वो धुप ही अच्छी थी।

दौलत की दौड़ से अच्छा था वो सडको पे नंगे पैर दौड़ना,

अंधियारे की रोशनी से लाख अच्छा था वो हमारा जुगनू पकड़ना।

मुस्कराती सुबह हुआ करती थी शामे भी रोज़ चहका करती,

कंचे, लट्टू, गिल्ली डंडा बस इतनी ही ख्वाहिशे हुआ करती थी।

वक़्त की कोई पाबंदी ना थी, ना कोई बोझ हुआ करता था,

हंसी ठिठोली करते करते सारा समय बीता करता था।

किस्से कहानियों में तब ज़िन्दगी रहा करती थी,

सपनो की दुनिया भी तब हमको सच्ची सी लगा करती थी।

मौसमो के मज़े सारे तब सब खुल के लिया करते थे,

ये कागजो की ज़िन्दगी से तो वो रोज़ की जंग अच्छी हुआ करती थी।

वो बूढा दरख्त जो हुआ करता था लू में हमारा आशना,

आज ढूंढता है बड़ी आस से वो गया ज़माना।

ये बंद शीशे के कमरे की ठंडी हवा वो सुकून ना दे पाती है,

जो समन्दर की हवा चंद पलो में दे जाती है।

बाँध के खुद को खुदा से दूर हमने यूँ कर लिया,

वो चाँदनी में तारे गिनती रातो का मज़ा ऐ खुदाया कुछ और ही था।

यूँही सफर में बसर हो रही है ज़िन्दगी,कहा वक़्त है कि दो पल चैन से कोई सांस भी ले सके।

काश न गया होता वो बचपन हमारा, इस नरम सी कुर्सी से तो वो धुप ही अच्छी थी।

Advertisements

3 thoughts on “सफर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s