Starry Night

When I walk on the road in a starry night,

Still there’s a darkness which lie hidden inside.

 

That shinning smile I still carry in my heart,

It still feels the same though it has been years since we are apart.

 

The chill of the wind shakes thy spine,

The memories are still afresh when you were all mine.

 

That shore still holds those immortal footprints,

Those moments of love went by in a blink.

 

I still miss those fingers entangled in thy hair strands,

Those eyes with oceanic depth and no end.

 

How can I forget thy majestic kiss,

which sucked all sorrows and gave thy sensual bliss.

 

The life has spun like the roulette wheel,

We still carry those wounds which will perhaps never heal.

 

We often walk thy forsaken ground,

But how hard you try doesn’t matter as it’s never going to come around.

 

Nobody knows but its the writer’s curse,

The words he pen down will never come out of those verse.

 

In the world of thought he might get the queen,

But in the real world he would just never win.

 

When I walk on the road in a starry night.

Advertisements

आशिक़ी

उस बेज़ुबाँ आशिक़ी का आलम क्या हम तुम्हे बताएं ऐ सनम,

वो मोहब्बत जो जवां हुई उस दरख़्त तले उस मोहब्बत का दर्द भी तुझे क्या सुनाएं ऐ सनम।।

 

वो बचपन के किस्से, वो जवानी की गलती, उन का भी क्यों हिसाब लगायें आज हम,

उन भूली सी यादों में वो नरगिस से चेहरा, उसे लगाए सीने से जीते ना जाने आज भी क्यों हम।।

 

उन बिरहा की रातों में तेरी पायल का मिलना और उस पायल की छन छन पर बूंदों का गिरना,

उन सावन की रातों में यादों का बरसाना, क्यों आज भी उन यादों से दिल लगते है हम।।

 

उस समंदर की यादों में तेरे कदमों के निशां, उन सुरमई आंखों की ख़ामोश ज़ुबाँ,

उन उलझी हुई लटों में तेरा यूँ उलझना, ना जाने उस उलझन से क्यों आज भी फस जाते है हम।।

 

उस मौसमें इश्क़ की कहानी क्या ही बयां करें हम,

परवान पर मोहब्बत यूँ थी जैसे रात के आग़ोश में चमकता चाँद रहे हरदम।।

 

बंज़र धरा पर वो बरखा का गिरना वो बूंदों की टप टप से मिट्टी का हँसना,

और उस मिट्टी की महक में तेरी महक को आज भी ना जाने क्यों खोजते हम।।

 

उस बेज़ुबाँ आशिक़ी का आलम क्या हम तुम्हे बताएं ऐ सनम,

वो मोहब्बत जो जवां हुई उस दरख़्त तले उस मोहब्बत का दर्द भी तुझे क्या सुनाएं ऐ सनम।।

Hope

In the darkest of nights there’s hope for the light,

What matters in life is the will to go on and a hope to hold on tight.

 

Loneliness of the heart often deprives you of dreams,

Being lonely is painful but that doesn’t mean that you give in.

 

In the jungle of life there are challenges that you will face,

Loses will be there but you will always find hope to embrace.

 

You will find love and your heart will be broken,

Don’t lose hope as there will always be someone to mend the broken.

 

Failures will haunt you and hunger will break you inside,

Have a little faith as the sea there are little high and low tides.

 

Things will go haywire and you will have to take all the fire,

Stand your ground and for once fight like a King’s heir.

 

Never give up on your dreams whatever be the case,

You will gain memories that even time will not be able to erase.

 

Moments of sorrow will soon disappear,

There will be joy and life without fear.

 

In the darkest of nights there’s hope for the light,

What matters in life is the will to go on and a hope to hold on tight.

ज़रूर हैं

तेरे ज़ेहन के हर सवाल का जवाब बेशक़ हो ना हो,

मग़र इस क़ायनात में तेरी एक जग़ह तो ज़रूर है।।

 

यूँ मायूस ना हो देख कर उन बिखरे ख्वाबों को तू,

ख्वाबों के बिखरने और संजोने के पीछे कोई मुनासिब वज़ह तो ज़रूर है।।

 

ठोकरों से टूट कर तू खड़ित तो मानो हो गया है,

पर भूल मत उस खंडन के पीछे तेरे कर्मों का हाथ तो कहीं ज़रूर है।।

 

माना कई हाथ छुटे हैं तेरे हाथों से इस जिंदगी की ज़द्दोज़हत में,

पर तेरे इस अकेलेपन की कोई मुनासिब वज़ह तो ज़रूर है।।

 

तू बेशक़ बादशाह बन बैठा इस जहां के तख्तोताज़ पर आज,

सब पा कर भी तेरे हाथ खाली होने की कोई वज़ह तो ज़रूर है।।

 

इस सूखी हवा में फैली तबस्सुम की महक है आज,

कहीं इस बंज़र ज़मी पर बरसात तो हुई ज़रूर है।।

 

इतनी फरियादों के बावज़ूद जब उस खुदा से तेरा सामना न हो पाया,

उस खुदा के पास तेरे रूबरू ना आने की कोई वाज़िब वज़ह तो ज़रूर है।।

 

वो मोहब्बत इतनी ग़हरी थी मग़र अपना मुक़ाम फ़िर भी ना पा सकी,

तेरे सपने मुकमल ना हो सकने के पीछे कोई छिपी वज़ह तो ज़रूर है।।

 

तेरे ज़ेहन के हर सवाल का जवाब बेशक़ हो ना हो,

मग़र इस क़ायनात में तेरी एक जग़ह तो ज़रूर है।।

Memories

I close my eyes I see thy face,

it’s those memories I find hard to erase.

The shackles of time might have tied my hands,

But there is a hope in my heart that I will meet you in the end.

The beauty of your eyes I can not forget,

Those memories are still afresh when my fingers played with those hair strands.

Those memorable days and sleepless nights,

Still I remember thy love which reached incomparable heights.

Your love was like that soothing wind,

Which touched my soul and made my heart sing.

I Still remember those moments and everything,

That everyday which went by, I live daily in my dreams.

The time went cruel and did separated our paths,

Thy love got lost and we were set apart.

I could still see your eyes in the wake of the night,

I dreams of that love which once brought us to life.

I close my eyes I see thy face,

it’s those memories I find hard to erase.

अक़्सर

मैं अक़्सर तेरी परछाईं को खोजा करता हूँ धूप भरी राहों में,

मैं खोजा करता हूँ अक़्सर उन लम्हों को जो बिताएं थे हमने साथ में।।

 

फ़लसफ़ा उन भीगीं रातों का यूँ स्याह होगा हमें अंदाज़ ना था,

मैं अक़्सर खोजा करता हूँ उन गुज़री हुईं यादों में उन भूले हुए संवादों को।।

 

दिन बीते साल बीते और सदियाँ यूँही गुज़र गई मानो उन छोटी छोटी मुलाक़ातों में,

मैं अक़्सर ढूंढा करता हूँ बहाने तुझे पाने के उन बासी पुरानी यादों में।।

 

इन सावन की रातों में जब काले बादल घिरते हैं जब हल्की हल्की बूंदे वो दिल पर दस्तकें देती हैं,

मैं अक़्सर सोचा करता हूँ वो वज़ह की आज भी है तू कहीं क्यों इस सीने में।।

 

खेल खेल में मोह्ब्बत हुई और खेल खेल में वादें कई,

मैं अक्सर ढूंढा करता हूँ उन अधूरे सपनो को उन टूटे वादों के ढेरों में कहीं।।

 

अब तो नामुम्किन सा ही लगता हैं कि होगी इन राहों में अपनी मुलाक़ात कभी,

मैं अक़्सर सोचा करता हूँ कि वक़्त आया है करने का हिसाब मेरे गुनाहों का अभी।।

 

वो खिलखिलाहट सी तेरी आज भी इस ज़ेहन में कहीं बाकी हैं,

मैं आज भी खोजा करता हूँ इस भीड़ में ग़ुम हुऐ तेरे उस चेहरे को कभी कभी।।

 

मैं अक्सर खोजा करता हूँ आज भी उन गुज़रे हुए लम्हों को,

उन गुज़री हुई रातो को, वो तेरी आँखों में बसी उन अनकहीं बातों को।।

 

मैं अक्सर खोजा करता हूँ, मैं अक्सर खोजा करता हूँ।।

 

Wind

Its the sound of the wind that unwinds the souls,

When all are busy in the humdrum forgetting where they actually belongs.

 

Momentary pleasures keeps drawing us down,

Its the morning breeze that uplifts that spirits and make us its own.

 

There’s a memory that we all try to erase,

Hiding it deep down under and never let it phase.

 

The glory of those old days which is forgotten in this rat race,

Its the beauty of the singing wind that just finds the lost treasure case.

 

It doesn’t discriminate either black or white,

What it says in those ears is that keep going on and put up a fight.

 

We all seek redemption on our different ways,

Being too harsh on ourselves isn’t going to help in this blind chase.

 

Learn to let go the things you hold on,

Life is like the wind it must keep moving on.

 

Spread your arms and let it embrace,

Stop sparing with yourself as its you who will be losing in every case.

 

Its a kid’s dream and a poet’s delight,

Bring out your pen or sporting shoes and play with all your might.

 

We all have to eyes for the beauty of the world,

All it takes is an effort to open up and look beyond this random goose chase.

 

Its the sound of the wind that unwinds the souls,

When all are busy in the humdrum forgetting where they actually belongs.